Ecrã de busca

मरकुस 7

1फिर फ़रीसी और कुछ आलिम उसके पास जमा हुए, वो यरूशलीम से आए थे। 2और उन्होंने देखा कि उसके कुछ शागिर्द नापाक या'नी बिना धोए हाथो से खाना खाते हैं 3क्यूकि फ़रीसी और सब यहूदी बुज़ुर्गों की रिवायत के मुताबिक़ जब तक अपने हाथ ख़ूब न धोलें नहीं खाते। 4और बाज़ार से आकर जब तक ग़ुस्ल न कर लें नहीं खाते, और बहुत सी और बातों के जो उनको पहुँची हैं पाबन्द हैं, जैसे प्यालों और लोटों और ताँबे के बर्तनों को धोना। 5पस फ़रीसियों और आलिमों ने उस से पूछा, “क्या वजह है कि तेरे शागिर्द बुज़ुर्गों की रिवायत पर नहीं चलते बल्कि नापाक हाथों से खाना खाते हैं?” 6उसने उनसे कहा “यसाया ने तुम रियाकारों के हक़ में क्या ख़ूब नबुव्वत की; जैसे लिखा है कि ये लोग होंटों से तो मेरी ता'ज़ीम करते हैं लेकिन इनके दिल मुझ से दूर है। 7ये बे फ़ाइदा मेरी इबादत करते हैं क्यूँकि इनसानी अहकाम की ता'लीम देते हैं ।’ 8तुम ख़ुदा के हुक्म को छोड़ करके आदमियों की रिवायत को क़ायम रखते हो। 9उसने उनसे कहा, “तुम अपनी रिवायत को मानने के लिए ख़ुदा के हुक्म को बिल्कुल रद्द कर देते हो।” 10क्यूँकि मूसा ने फ़रमाया है, ‘अपने बाप की अपनी माँ की इज़्ज़त कर, और जो कोई बाप या माँ को बुरा कहे‘वो ज़रूर जान से मारा जाए।’ 11लेकिन तुम कहते हो‘अगर कोई बाप या माँ से कहे जिसका तुझे मुझ से फ़ाइदा पहुँच सकता था’वो कुर्बान या'नी ख़ुदा की नज़्र हो चुकी। 12तो तुम उसे फिर बाप या माँ की कुछ मदद करने नहीं देते। 13यूँ तुम ख़ुदा के कलाम को अपनी रिवायत से जो तुम ने जारी की है बेकार कर देते हो और ऐसे बहुतेरे काम करते हो।” 14और वो लोगों को फिर पास बुला कर उनसे कहने लगा, “ तुम सब मेरी सुनो और समझो। 15कोई चीज़ बाहर से आदमी में दाख़िल होकर उसे नापाक नहीं कर सकती मगर जो चीज़ें आदमी में से निकलती हैं वही उसको नापाक करती हैं ।” 16[अगर किसी के सुनने के कान हों तो सुन लें।] 17जब वो भीड़ के पास से घर में आया “तो उसके शागिर्दों ने उससे इस मिसाल का मतलब पूछा ?” 18उस ने उनसे कहा, “क्या तुम भी ऐसे ना समझ हो? क्या तुम नहीं समझते कि कोई चीज़ जो बाहर से आदमी के अन्दर जाती है उसे नापाक नहीं कर सकती? 19इसलिए कि वो उसके दिल में नहीं बल्कि पेट में जाती है और गंदगी में निकल जाती है”ये कह कर उसने तमाम खाने की चीज़ों को पाक ठहराया। 20फिर उसने कहा, “जो कुछ आदमी में से निकलता है वही उसको नापाक करता है। 21क्यूँकि अन्दर से, या'नी आदमी के दिल से बुरे ख्याल निकलते हैं हरामकारियाँ 22चोरियाँ. ख़ून रेज़ियाँ, ज़िनाकारियाँ। लालच, बदियाँ, मक्कारी, शहवत परस्ती, बदनज़री, बदगोई, शेखी, बेवक़ूफ़ी। 23ये सब बुरी बातें अन्दर से निकल कर आदमी को नापाक करती हैं” 24फिर वहाँ से उठ कर सूर और सैदा की सरहदों में गया और एक घर में दाख़िल हुआ और नहीं चाहता था कि कोई जाने मगर छुपा न रह सका। 25बल्कि फ़ौरन एक औरत जिसकी छोटी बेटी में बदरूह थी, उसकी ख़बर सुनकर आई और उसके क़दमों पर गिरी। 26ये औरत यूनानी थी और क़ौम की सूरूफ़ेनेकी उसने उससे दरख़्वास्त की कि बदरूह को उसकी बेटी में से निकाले। ” 27उसने उससे कहा, “ पहले लड़कों को सेर होने दे“क्यूँकि लड़कों की रोटी लेकर कुत्तों को डाल देना अच्छा नहीं। ” 28उस ने जवाब में कहा “हाँ ख़ुदावन्द, कुत्ते भी मेज़ के तले लड़कों की रोटी के टुकड़ों में से खाते हैं। ” 29उसने उससे कहा “इस कलाम की ख़ातिर जा बदरूह तेरी बेटी से निकल गई है।” 30और उसने अपने घर में जाकर देखा कि लड़की पलंग पर पड़ी है और बदरूह निकल गई है। 31और वो फिर सूर की सरहदों से निकल कर सैदा की राह से दिकापुलिस की सरहदों से होता हुआ गलील की झील पर पहुँचा। 32और लोगों ने एक बहरे को जो हकला भी था, उसके पास लाकर उसकी मिन्नत की कि अपना हाथ उस पर रख। 33वो उसको भीड़ में से अलग ले गया, और अपनी उंगलियाँ उसके कानों में डालीं और थूक कर उसकी ज़बान छूई। 34और आसमान की तरफ़ नज़र करके एक आह भरी और उससे कहा “इफ़्फ़त्तह!” (या'नी “खुल जा!”) 35और उसके कान ख़ुल गए, और उसकी ज़बान की गिरह ख़ुल गई और वो साफ़ बोलने लगा। 36उसने उसको हुक्म दिया, ” कि किसी से न कहना, लेकिन जितना वो उनको हुक्म देता रहा उतना ही ज्यादा वो चर्चा करते रहे। 37और उन्हों ने निहायत ही हैरान होकर कहा “जो कुछ उसने किया सब अच्छा किया वो बहरों को सुनने की और गूँगों को बोलने की ताक़त देता है। ”

उर्दू बाइबिल

Copyright © 2017 Bridge Connectivity Solutions. Released under a Creative Commons Attribution Share-Alike license 4.0.

More Info | Version Index